कैसी हो कपल्स की फाइनेंशियल प्लानिंग और क्या हैं इससे जुड़े मिथक, जानें एक्सपर्ट की राय.. – दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

B

a

नई दिल्‍ली, राहुल जैन। कपल्स (दंपति) के लिए रुपये-पैसों को मैनेज करने का काम चैलेंजिंग साबित हो सकता है। हालांकि, जब तथ्यों से ज्यादा मिथक फैल जाए तो यह चुनौती कई गुना बढ़ जाती है। वैवाहिक रिश्तों में कलह की एक बड़ी वजह, रुपये-पैसे और वित्तीय प्रबंधन को लेकर असहमतियों से भी जुड़ी हुई है। इसके साथ ही मिथकों से कपल्स को वित्तीय आजादी प्राप्त करने में कठिनाई पेश आ सकती है। रुपये-पैसे को लेकर कपल्स के बीच ये आम मिथक होते हैं और उनसे जुड़ी वास्तविकताएं कुछ ऐसी होती हैं।

तथ्य: वास्तव में यह शुरुआती बिन्दू होता है। सगाई के बाद ना सिर्फ आगे की लाइफ के प्लान के बारे में बात करनी चाहिए बल्कि इस बात को लेकर भी बात करनी चाहिए कि आप वित्तीय रूप से किस प्रकार रहना चाहते हैं। शादी से पहले एक दूसरे के फाइनेंशियल आउटलुक के बारे में जानना-समझना चाहिए और खुद को इसके लिए मानसिक तौर पर तैयार करना चाहिए।

दो लोग एक जैसे नहीं हो सकते हैं। पैसे-रुपयों में ये अंतर ज्यादा देखने को मिलता है। शादी में वित्तीय मुद्दों को लेकर किसी तरह के टकराव से बचने के लिए फाइनेंस के मुद्दे पर दोनों लोगों की राय एक जैसी होनी जरूरी होती है। अगर ऐसा नहीं होता है तो चीजें जटिल हो जाती हैं।
तथ्य: ये सही है कि फाइनेंस और रुपये-पैसों के मामले में पुरुषों की दखल ज्यादा होती है लेकिन वक्त बदल गया है। अब वित्तीय सुधार के लिए रुपये-पैसों से जुड़े फैसले करते समय महिलाएं भी समान रूप से भागीदारी दिखाती हैं। छोटे-बड़े सभी फैसलों में हिस्सा लिया और यह समझने की कोशिश कीजिए कि यह आप दोनों के लक्ष्य को किस तरह से प्रभावित करता है।

हर कपल को खुद को वित्तीय रूप से सशक्त बनने की कोशिश करनी चाहिए। अकेले लिए गए फैसलों की तुलना में एकसाथ लिए गए फैसलों से इच्छित परिणाम आने की संभावना ज्यादा होती है। इसके साथ ही पार्टनर को फैसले में इंवाल्व करने से एक तरह का भरोसा काम होता है जो सफल वैवाहिक रिश्ते के लिए जरूरी होता है।
तथ्य: नहीं, ऐसा नहीं होगा। वास्तव में यह एक सेतु की तरह काम करता है और आपके रिश्ते को ज्यादा सार्थक बनाता है। पैसे-रुपयो के लेकर एक-दूसरे से बातचीत करने से किसी भी तरह के कन्फ्यूजन और गलतफहमी को दूर करने में मदद मिलती है। सार्थक बातचीत से भी घर या कार खरीदने या रिटायरमेंट फंड बनाने जैसे लक्ष्यों को हासिल करने में मदद मिलती है। रुपये-पैसों को लेकर खुले तौर पर सोचने से भी आपके रिश्ते को मजबूती देने में मदद मिलती है।

तथ्य: ऐसा नही है। सच्चाई ये है कि अधिकतर मौकों पर हमेशा ऐसा होगा भी नहीं। हालांकि, इसमें सबसे अहम मतभेद का सम्मान करना और लगातार संवाद बनाए रखना होता है। समय के साथ आपको अपने पार्टनर को बेहतर तरीके से समझने और किसी भी तरह की गलती को दूर करने में मदद मिलती है।

बातचीत के दौरान अपने पार्टनर के प्वाइंट ऑफ व्यू को समजना और असहज कर देने वाले विचार रखने का साहस होना चाहिए। इसका मकसद एक-दूसरे के स्ट्रेंथ से सीखना और दूसरे व्यक्ति को उसकी कमजोरी से निकलने में मदद करना होना चाहिए। भविष्य में इससे सार्थक परिणाम मिलता है।
तथ्यः जहां ज्वाइंट अकाउंट रखने में कोई बुराई नहीं है तो दूसरी तरफ ये जरूरी भी नहीं है। अतीत में कई कपल्स के लिए ज्वाइंट अकाउंट्स मददगार साबित नहीं हुआ है और इसमें कोई दिक्कत भी नहीं है। हर दिन के खर्चों को मैनेज करने के लिए दोनों पार्टनर अलग-अलग अकाउंट को ऑपरेट कर सकते हैं।

सामूहिक लक्ष्यों को लेकर पैसे सेव करने के लिए दोनों के पास ज्वाइंट अकाउंट हो सकता है। यहां ध्यान रखने वाली बात ये है कि अलग-अलग अकाउंट्स होने की स्थिति में ऑपरेशन्स को ट्रांसपैरेंट रखना चाहिए ताकि किसी तरह की गलतफहमी पैदा ना हो।
इन मिथकों से उबरने से कपल्स को अपने रिश्ते को मजबूती देने और पैसे-रुपयों से जुड़े किसी भी तरह के गतिरोध से बचने में मदद मिल सकती है। वे चुनौतियों से पार पा सकते हैं और अपनी यात्रा को सफल बना सकते हैं।

(लेखक Edelweiss Wealth Management में Personal Wealth के प्रेसिडेंट एवं हेड हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

Copyright © 2022 Jagran Prakashan Limited.

source

🤞 Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read more in our [link]privacy policy[/link]

close

Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.


    Leave a comment
    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    H
    Hemant Malhotra
    Shadow Banking - Meaning, Functions, Advantages & Disadvantages
    January 11, 2021
    Save
    Shadow Banking - Meaning, Functions, Advantages & Disadvantages
    H
    Hemant Malhotra
    How To Apply Axis Bank Personal Loan
    February 27, 2021
    Save
    How To Apply Axis Bank Personal Loan
    S
    Siddhi Rajput
    What is Cryptocurrency Banking ?
    December 3, 2021
    Save
    What is Cryptocurrency Banking ?
    Sponsored
    Sponsored Pix
    Subscribe to Our Newsletter

    Don’t miss these tips!

    We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.