'लाख' बनाएगी लखपति: CM भूपेश बघेल की पहल के बाद बदलेगी किसानों की किस्मत; KCC लोन मिलना शुरू – Dainik Bhaskar

B

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल के बाद अब गरियाबंद जिले के कांडसर ग्राम के किसानों के लिए लाख की खेती सोना उगलने वाली है। कृषि ऋण की तरह लाख उत्पादन के लिए किसानों को केसीसी (किसान क्रेडिट कार्ड) के तहत लोन दिया गया है।
देवभोग के कांडसर के रहने वाले 4 किसानों को लोन मिला है, उनमें मधु सिंह, राजो बाई, भीखराम और भीखम शामिल हैं। देवभोग के लाख की क्वालिटी बहुत उच्च है। डीएफओ मयंक अग्रवाल ने बताया कि डिवीजन के देवभोग परिक्षेत्र में लाख उत्पादन की असीम संभावनाएं हैं। इसलिए सरकार केसीसी लोन के जरिए इसके उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। डीएफओ ने बताया कि सरकार की महती योजना के तहत प्रदेश भर में लाख उत्पादन के लिए पहला लोन देवभोग के किसानों को मिला है।
देवभोग के लाख की मांग विदेशों तक में है। दरअसल लाख का इस्तेमाल श्रृंगार के सामान, सील, चपड़ा, विद्युत कुचालक, वार्निश, फलों और दवा पर कोटिंग, पॉलिश एवं सजावट की वस्तुएं तैयार करने में किया जाता है। ये बहुउपयोगी है, जिससे किसानों को अच्छी कीमत मिलती है। दवा कंपनियों में इसकी बहुत मांग है।
लघु वनोपज आधारित विकास योजना के तहत सीएम भूपेश बघेल ने ऐलान किया कि जिन किसानों के पास जितने अधिक लाख के पेड़ होंगे, उन्हें उतना अधिक लोन मिलेगा। किसानों के लिए सीएम भूपेश बघेल ने मार्च में बड़ी घोषणा की थी। उन्होंने लघु वनोपज आधारित विकास योजना के तहत धान की फसल की तरह लाख उत्पादन के लिए भी केसीसी लोन उपलब्ध कराने की बात कही थी। मार्च 2022 में हुई इस घोषणा के बाद पिछले हफ्ते कांडसर (देवभोग) में एक सभा का आयोजन कर प्रदेश में लाख उत्पादन के लिए पहले लोन का वितरण 4 किसानों को किया गया।
करीब एक साल से वन विभाग यहां के किसानों को लाख उत्पादन के लिए प्रशिक्षित कर रहा था। जिला यूनियन लघु वजोपज संघ के उप संचालक अतुल श्रीवास्तव और लाख उतपादक के प्रमुख प्रशिक्षक डॉ एके जायसवाल की मौजूदगी में कृषि विभाग एवं जिला सहकारी समिति डूमाघाट प्रबंधन ने केसीसी देने की प्रक्रिया पूरी की। पेड़ों के संख्या के आधार पर किसान मधु सिंह को 12 हजार 700, भीखराम को 50 हजार, भीखम को 25 हजार और राजो बाई को 15 हजार रुपए अल्पकालीन ऋण का भुगतान सोमवार 12 सितंबर को गोहरापदर जिला सहकारी बैंक से किया गया।
70 किसानों को जल्द मिलेगा लोन- डीएफो
डीएफओ मयंक अग्रवाल ने कहा कि जल्द ही 70 और किसानों को लाख उत्पादन के लिए लोन दिया जाएगा। एक पेड़ पर लाख उत्पादन के लिए औसतन 5 से 7 हजार रुपए का खर्च आता है और इसका बाजार मूल्य 50 से 60 हजार रुपए तक मिल जाता है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में लाख की कीमत 2 हजार रुपए किलो तक है।
डीएफओ ने बताया कि प्रति कुसुम पेड़ पर 5000, बेर के लिए 900 और पलाश के एक पेड़ पर 500 रुपए का लोन देने का प्रावधान है। इन तीनों पेड़ पर लाख होता है, लेकिन कुसुम लाख इनमें सबसे बेहतर होता है। किसान दिसंबर से जनवरी माह के बीच लाख लगाते हैं। उससे पहले ही लोन की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इसके लिए पटवारी के माध्यम से पेड़ों की एंट्री राजस्व नक्शे में की जा रही है।
लाख केरिना लाका कीट से उत्पादित होने वाली प्राकृतिक राल है। लाख के कीड़े पलाश, कुसुम और बेर के पेड़ों पर पाले जाते हैं, जिनकी शाखाओं से रस चूसकर वे भोजन प्राप्त करते हैं। वे अपनी सुरक्षा के लिए राल का स्राव कर कवच बना लेते हैं। यही लाख होता है, जिसे काटी गई टहनियों से खुरच कर निकाला जाता है।
Copyright © 2022-23 DB Corp ltd., All Rights Reserved
This website follows the DNPA Code of Ethics.

source

🤞 Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read more in our [link]privacy policy[/link]

close

Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.


    Leave a comment
    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    S
    Siddhi Rajput
    How to Activate Net Banking In ICICI Bank
    December 29, 2021
    Save
    How to Activate Net Banking In ICICI Bank
    H
    Hemant Malhotra
    IDFC Bank Personal Loan
    March 11, 2021
    Save
    IDFC Bank Personal Loan
    H
    Hemant Malhotra
    How To Boost CIBIL Rating In 7 Smart Ways?
    February 18, 2021
    Save
    How To Boost CIBIL Rating In 7 Smart Ways?
    Sponsored
    Sponsored Pix
    Subscribe to Our Newsletter

    Don’t miss these tips!

    We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.