Personal Finance Tips: भविष्य के खतरों का सोच बनाया है Emergency Fund, जानें कहां कर सकते हैं इन्हें इन्वेस्ट – Zee Business हिंदी

B

जानिए कहां इन्वेस्ट कर सकते हैं आप अपना इमरजेंसी फंड. (Source Pixabay)
Personal Finance Tips: कोरोना महामारी के बाद आए इकोनॉमिक क्राइसिस ने हमें भविष्य में भी ऐसे अनचाहे खतरे के लिए खुद को तैयार होना सीखा दिया है. कोरोना की पहली लहर के दौरान लगे नेशनल लॉकडाउन में काफी सारे लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा. इसके अलावा काफी सारे लोगों को पहले से कम सैलरी में गुजारा करना पड़ा. इन सबने हमें इमरजेंसी फंड या Contingency Fund के अहमियत को समझा दिया. फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का मानना है कि हर किसी के पास खुद को भविष्य के अनजान खतरों से बचाने के लिए एक इमरजेंसी फंड जरूर होना चाहिए. 
कोरोना से पहले एक्सपर्ट्स का मानना था कि आपकी सैलरी के 3-6 महीने बराबर आपका इमरजेंसी फंड (Emergency Fund) होना चाहिए. लेकिन कोरोना को देखते हुए अब एक्सपर्ट्स का कहना है कि इसे बढ़ाने की आवश्यकता है. एडवांटेज फाइनेंशियल प्लानर एलएलपी के प्रिंसिपल ऑफिसर और फाइनेंशियल प्लानर तारेश भाटिया (Taresh Bhatia) का कहना है कि लोगों को 6-12 महीनों का इमरजेंसी फंड रखना चाहिए. जैसे कि अगर आपकी सैलरी 50,000 रुपये महीने है, तो आपके पास 6 लाख रुपये तक का इमरजेंसी फंड होना चाहिए.

Zee Business Hindi Live यहां देखें

 

ये आपके ट्रेडिशनल इन्वेस्टमेंट से हटकर होना चाहिए. जिसका इस्तेमाल सिर्फ किसी हेल्थ इमरजेंसी या फिर किसी ऐसे इमरजेंसी जिसके लिए आप तैयार न हो उनमे ही करना चाहिए. ऐसे में सवाल यह उठता है कि इस इमरजेंसी फंड का करना क्या है. क्या इसकी लिक्विडिटी बनाए रखने के लिए इसे अपने सैलरी जैसे ही चुपचाप बैंक में छोड़ देना चाहिए. फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स इसकी सलाह नहीं देते हैं. 
फाइनेंशियल एक्सपर्ट तारेश भाटिया का मानना है कि आपको इमरजेंसी फंड को ऐसे इन्वेस्ट करना चाहिए कि यह चार क्राइटेरिया को पूरा करे. 
बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर और फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स ए के निगम (A K Nigam) का मानना है कि आप अपने इमरजेंसी फंड (Emergency Fund) को तीन हिस्सों में बांट कर देख सकते हैं. अल्ट्रा शॉर्ट टर्म, शॉर्ट टर्म और मिडियम टर्म. मार्केट में आज जरूरतों को देखते हुए कई तरह के Debt Fund के ऑप्शन मौजूद हैं. आप अपनी जरूरतो को देखते हुए इमरजेंसी फंड के एक हिस्से को अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड्स में लगा सकते हैं. ये फंड किसी भी इमरजेंसी की सूरत में आपको ओवर नाइट पैसे उपलब्ध करा सकते हैं. ऐसे इन्वेस्टमेंट 0 से 3 महीनों तक के लिए की जा सकती है. 
इसके अलावा कुछ ऐसे भी खर्चें होते हैं, जिनके लिए आप तैयार तो नहीं होते हैं, लेकिन उन्हें कुछ टाला जा सकता है. इन जरूरतों के लिए आप 3-6 महीनों के लिए Short term Debt Fund में इन्वेस्ट कर सकते हैं. इसके अलावा मिडियम टर्म Debt Fund का भी ऑप्शन उपलब्ध है. ये Debt Fund आपको बैंक में रखे पैसे से अच्छा रिटर्न दे सकते हैं.
सिर्फ इमरजेंसी फंड (Emergency Fund) बना लेना ही काफी नहीं है. वक्त के साथ मंहगाई और अस्पताल के खर्चों में बढ़ोतरी ही हो रही है. इसलिए एक्सपर्ट्स कहते हैं कि आपको समय-समय पर इसे अपडेट भी करते रहना चाहिए. जैसे हर साल-दो साल में इसमें 5-10 पर्सेंट की वृद्धि की जा सकती है. ऐसा करके आप खुद को मौजूदा इकोनॉमिक क्राइसिस के लिए तैयार कर सकते हैं.

source

🤞 Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read more in our [link]privacy policy[/link]

close

Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.


    Leave a comment
    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    H
    Hemant Malhotra
    How reverse mortgage helps senior citizens enhance their regular monthly income
    April 2, 2021
    Save
    How reverse mortgage helps senior citizens enhance their regular monthly income
    H
    Hemant Malhotra
    How To Qualify For A Personal Loan (Without Putting Up Security).
    April 9, 2021
    Save
    How To Qualify For A Personal Loan (Without Putting Up Security).
    P
    Preeti Daga
    What is Personal Finance? Importance, Types, Process, and Strategies?
    August 25, 2022
    Save
    What is Personal Finance? Importance, Types, Process, and Strategies?
    Sponsored
    Sponsored Pix
    Subscribe to Our Newsletter

    Don’t miss these tips!

    We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.