Tax Saving Tips: ज्यादा चुकाना पड़ता है टैक्स, जानिए ये 7 सेविंग टिप्स – Jansatta

B

Jansatta

आय अधिक होने से लोग तरह-तरह के टैक्‍स सेविंग की प्‍लानिंग करते हैं, ताकि उन्‍हें कम टैक्‍स चुकाना पड़े। यहां एक्‍सपर्ट की ओर से आय पर टैक्‍स छूट पाने के कुछ रास्‍तों के बारे में विस्‍तार से जानकारी दी गई है, जिसपर आप अधिक से अधिक टैक्‍स की सेविंग कर सकते हैं।
कई छोटे और निजि क्षेत्र के बचत बैंक खाते पर उच्‍च दरों की पेशकश की जाती है। हालांकि बचत बैंक खाते कम ब्‍याज दरों की पेशकश करते हैं। ऐसे में निवेशक या जमाकर्ता अपने उच्‍च बचत खातों को एक्‍स्‍ट्रा राशि के लिए एक सेफ डिपॉजिट के रूप में उपयोग कर सकते हैं। हालांकि अधिकांश करदाता इस बात से अनजान हैं कि उच्‍च ब्‍याज दर देने वाले खातों पर धारा 80TTA के तहत प्रति वर्ष INR10,000 तक की ब्याज आय कर-मुक्त है, लेकिन इस राशि से अधिक ब्याज आय पर आपको टैक्‍स का भुगतान करना होगा।
धारा 80सी के तहत अधिकतम दो बच्चों के स्कूल या ट्यूशन फीस के खर्च को 1.5 लाख रुपये तक काटा जा सकता है। स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय, नर्सरी और प्री-नर्सरी, साथ ही प्लेस्कूल में जाने के लिए किए गए खर्च को इसके तहत कवर किया जाता है, लेकिन ट्यूशन फीस का भुगतान अपने पति या पत्नी को नहीं किया जाता है।
अगर आप एचआरए पाते हैं और माता पिता के साथ ही रहते हैं तो भी धारा 10 (13A) के तहत एचआरए से कर कटौती के लिए हकदार हैं। हालांकि इसका लाभ लेने के लिए रेंट एग्रीमेंट पर दोनों पक्षों का साइन होना चाहिए और रेंट स्लिप जमा की जानी चाहिए। उनके माता-पिता इससे प्रभावित नहीं होंगे क्योंकि उनकी गृह संपत्ति का शुद्ध वार्षिक मूल्य (एनएवी) अभी भी उन्हें 30 प्रतिशत की मानक कटौती के लिए योग्य बना देगा।
आयकर अधिनियम के तहत नियम 11DD के अनुसार करदाताओं को गुर्दे की बीमारी, एड्स, हीमोफिलिया, थैलेसीमिया, घातक कैंसर और अन्‍य संबंधी रोगों के लिए धारा 80DDB द्वारा कटौती करने की अनुमति है। हालांकि, कटौती का दावा केवल तभी किया जा सकता है जब रिपोर्ट एक न्यूरोलॉजिस्ट, यूरोलॉजिस्ट, ऑन्कोलॉजिस्ट, हेमेटोलॉजिस्ट और इम्यूनोलॉजिस्ट द्वारा जारी किए गए हों।
धारा 80TTB के के तहत वरिष्ठ नागरिक की ओर से बैंकों, डाकघरों और सहकारी बैंक जमाओं से ब्याज आय पर 50,000 रुपये तक की कटौती कर सकते हैं। एक बचत खाता, एक सावधि जमा और एक आवर्ती जमा सभी को जमा माना जाता है।
धारा 10(13A) के तहत किराए पर एचआरए लेने वाले कर्मचारियों द्वारा कर कटौती का दावा किया जा सकता है। खुद के आवास होने की स्थिति में भुगतान किए गए किराए की कटौती स्व-नियोजित या वेतनभोगी व्यक्तियों द्वारा धारा 80GG के तहत की जा सकती है। यह कटौती 5,000 रुपये प्रति माह या मूल्यांकन की वार्षिक आय का 25%, जो भी कम हो, तक सीमित है। इस कटौती का दावा करने के लिए करदाता को धारा 10BA भी जमा करना होगा।
होम लोन पर भी कर छूट पाया जा सकता है। सेक्शन 80C के तहत होम लोन के मूलधन के भुगतान पर आपको 1.5 लाख तक की छूट मिलेगी और सेक्शन 24B के तहत ब्याज़ भुगतान पर 2 लाख तक की छूट दी जाएगी। 80C का उपयोग करके आप 1.5 लाख रुपये तक की छूट प्राप्त कर सकते हैं।
पढें Personal Finance (Personalfinance News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

source

🤞 Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read more in our [link]privacy policy[/link]

close

Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.


    Leave a comment
    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    P
    Preeti Daga
    What is Personal Finance? Importance, Types, Process, and Strategies?
    August 25, 2022
    Save
    What is Personal Finance? Importance, Types, Process, and Strategies?
    H
    Hemant Malhotra
    How to reduce EMI on Personal Loan
    February 22, 2021
    Save
    How to reduce EMI on Personal Loan
    N
    Naina Rajgopalan
    How to Fool Proof Your Personal Financial Planning? Here are 7 Tips!
    October 1, 2022
    Save
    How to Fool Proof Your Personal Financial Planning? Here are 7 Tips!
    Sponsored
    Sponsored Pix
    Subscribe to Our Newsletter

    Don’t miss these tips!

    We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.