Financial Planning for Children : अक्सर सताती है बच्चों के फ्यूचर की चिंता, तो अभी से शुरू कर दें ये छोटे-छोटे इन्वेस्टमेंट – Zee Business हिंदी

B

Financial Planning for Children : अक्सर सताती है बच्चों के फ्यूचर की चिंता, तो अभी से शुरू कर दें ये छोटे-छोटे इन्वेस्टमेंट (DNA)
हर पैरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्‍चे अच्‍छी शिक्षा प्राप्‍त करें और बड़ा मुकाम ह‍ा‍सिल करें, लेकिन तेजी से बढ़ रही महंगाई के बीच बच्‍चों की क्‍वालिटी एजुकेशन कोई मामूली बात नहीं है. यही वजह है कि बच्‍चों के जन्‍म के समय से ही उनके पैरेंट्स को बच्‍चों के भविष्‍य की फिक्र सताने लगती है. अगर आप भी अपने बच्‍चे के फ्यूचर को लेकर अक्‍सर फिक्रमंद रहते हैं, तो यहां हम आपको बताने जा रहे हैं, छोटे-छोटे इंवेस्‍टमेंट प्‍लान के बारे में,  जिन्‍हें हर पैरेंट्स को समय रहते शुरू कर देना चाहिए. आप जितनी जल्‍दी बच्‍चों के लिए फाइनेंशियल प्‍लानिंग करेंगे, उतना बेहतर रिटर्न आपको मिल सकेगा, जिसे आप भविष्‍य में बच्‍चों की हायर एजुकेशन के अलावा उनकी शादी और अन्‍य जरूरताें पर खर्च कर सकते हैं.
अगर आप बेटी के माता-पिता हैं, तो आपको उसके भविष्‍य के लिए सुकन्‍या समृद्धि योजना में पैसे का निवेश जरूर करना चाहिए. 10 साल तक की लड़की के माता पिता किसी भी पोस्‍ट ऑफिस या सरकारी बैंक में इस योजना के तहत अकाउंट खोल सकते हैं. सुकन्‍या समृद्धि योजना से जुड़ी अच्‍छी बात ये है कि ये आपकी जेब पर बहुत ज्‍यादा लोड नहीं डालती. इस स्‍कीम के तहत सालाना कम से कम 250 रुपए और अधिकतम 1.50 लाख रुपए निवेश किए जा सकते हैं. ये स्‍कीम 21 साल में मैच्‍योर होती है, लेकिन बच्‍ची की उम्र 18 साल होने पर आप उसकी शिक्षा के लिए खाते से कुछ राशि निकाल सकते हैं. लेकिन पूरी राशि आपको 21 साल पूरे होने के बाद ही मिलती है.

बच्‍चों के लिए फाइनेंशियल प्‍लानिंग करते समय आप म्‍यूचुअल फंड में निवेश का विकल्‍प भी चुन सकते हैं. इसके लिए SIP बेहतर विकल्‍प है. Systematic Investment Plan को SIP के नाम से जाना जाता है. इसे म्‍यूचुअल फंड में निवेश का सिक्‍योर ऑप्‍शन माना जाता है. आप महज 100 रुपए से भी आप SIP स्‍टार्ट कर सकते हैं. इसका लॉन्‍ग टर्म बेहतर रिटर्न मिलता है. इससे मिलने वाली राशि को आप बच्‍चों की पढ़ाई के अलावा उनके अन्‍य जरूरी खर्चों में इस्‍तेमाल कर सकते है.

पब्लिक प्रोविडेंट फंड को PPF भी कहा जाता है. लंबे समय के लॉक-इन पीरियड के लिहाज से ये भी अच्‍छा विकल्‍प साबित हो सकता है. अगर आपका बच्‍चा 18 साल से कम उम्र का है, तो आप उसके लिए पीपीएफ अकाउंट खुलवा सकते हैं. ये अकाउंट 15 साल में मैच्‍योर होता है, इसलिए आप इसे बच्‍चे के लिए जितनी जल्‍दी खुलवा लेंगे, उतना ही आपके बच्‍चे के लिए बेहतर हाेगा. मान लीजिए आपका बच्‍चा 4 या 5 साल का है और तभी आप उसके लिए PPF अकाउंट ओपन कर देते हैं, तो जब वो 19 या 20 साल का होगा तो उसे उसकी जरूरत के लिए इसकी राशि मिल जाएगी. 18 साल के बाद आपका बच्‍चा खुद भी इस अकाउंट को ऑपरेट कर सकता है और चाहे तो इससे रुपए निकाल सकता है.
फिक्‍स डिपॉजिट को ज्‍यादातर लोग सु‍रक्षित निवेश मानते हैं. बचत खातों की तुलना में ये आपको बेहतर ब्‍याज देता है. FD को आप किसी भी बैंक या पोस्‍ट ऑफिस से शुरू कर सकते हैं. एफडी आप 7 दिन से 10 साल के टर्म में कर सकते हैं. अच्‍छी बात ये है कि जरूरत पड्ने पर इससे आसानी से विदड्रॉल किया जा सकता है. लेकिन  फिक्‍स डिपॉजिट भी आप जितनी जल्‍दी करेंगे, उतना ही आपके बच्‍चे के लिए बेहतर होगा और आप समय पर इस राशि का सही उपयोग कर सकेंगे.

source

🤞 Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read more in our [link]privacy policy[/link]

close

Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.


    Leave a comment
    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    H
    Hemant Malhotra
    Secured credit card- Repair CIBIL score
    March 15, 2017
    Save
    Secured credit card- Repair CIBIL score
    H
    Hemant Malhotra
    Incred Personal Loan
    March 5, 2021
    Save
    Incred Personal Loan
    H
    Hemant Malhotra
    7 METHOD WHICH AN EMI CALCULATOR AID YOU STRATEGY YOUR FINANCE
    March 25, 2021
    Save
    7 METHOD WHICH AN EMI CALCULATOR AID YOU STRATEGY YOUR FINANCE
    Sponsored
    Sponsored Pix
    Subscribe to Our Newsletter

    Don’t miss these tips!

    We don’t spam! Read our [link]privacy policy[/link] for more info.